समय

pexels-photo-2613407.jpeg
Photo by sergio souza on Pexels.com

 

समय के साथ चलते-चलते,

प्रवाह के साथ बहते-बहते,

कभी डूबकर, कभी तैरते,

कभी उनींदे, कभी सजग मन,

नापना समय को याद रहा,

पर उसे जानना भूल गया।

 

याद रहे क्षण, प्रहर और पल,

खगोल पिंड गति याद रही,

परंतु यह है क्या, क्यौं हमे मिला,

कभी इसकी चर्चा हुई नहीं।

 

आदि हीन लगता अनंत-सा,

अखण्डित, अक्षुण्ण और निरंतर,

पर ज्ञात नहीं यह चलता हमसे,

या सारी सृष्टि है इस पर निर्भर?

 

है श्रोत कहीं जो इसका उद्गम?

बीत गया तो गया कहाँ यह ?

यह चलता है या हम चलते ?

या दोनो ही हैं भ्रम के प्रत्यय ?

 

या अंतहीन यह किसी वलय-सा,

चिरंतन, काल चक्र आवर्ती?

तो क्या हम बस इस गति के हैं इन्धन,

अभिशापित, अर्थहीन, क्षणव्यापी?

 

नाप तौल की बात करूँ तो,

है क्यौं इतना स्थिति सापेक्ष यह?

कभी रुका-रुका सा लगता,

और कभी विषमगति, वक्र, ह्रासमय।

 

प्रश्न बहुत हैं जिन्हे विज्ञान समझे,

पर मेरी एक भोली जिज्ञासा,

मैं समय के गोद पड़ा हूँ,

या है समय मुट्ठी से पल-पल रिसता-सा?

 

अनादि, अनंत, अखंडित, शाश्वत,

अप्रमेय, सर्वग्राही, सर्वत्र विद्यमान ।

समदर्शी, समस्पर्षी, सुलभ सबको एक समान,

हे देवतुल्य, चिरसखा समय, शाश्वत प्रणाम।

शाश्वत प्रणाम ।

 

 

हल्कापन : भारहीनता

feather-647967__480

 

ये जो हल्कापन भर जाता है मुझमें,

रह रह कर

कि मैं अनायास तेज चलने लगता हूँ,

मुड़के पीछे देखना अच्छा लगता है,

रुक जाता हूँ लोगों के साथ होने तक,

अकेले हो जाने का भय नहीं,

आवश्यक किसीका आश्रय नहीं,

अब थकने पर नहीं रुकता,

रुकना व्यवधान नहीं लगता,

साथ सुगम लगता है,

अपना बोझ भी कम लगता है,

जैसे अंतरिक्ष से तरंगें भावपूर्णता की,

आ रही हो मेरी ओर,

बह बह कर ।

यह जो हल्कापन भर जाता है मुझमें,

रह रह कर ।

****************************************
पगड़ी उतार फेकी,

पनही उतार फेकी,

करनी से जुदा सारी

कथनी उतार फेकी,

कंकड़ों को चुभने दिया पावों में,

फर्क करना कम कर दिया,

धूप में और छावों में,

बंद कर दिया खोजना

औरों की आँखों में

अपना कद अपना आकार,

पाँव छिले, ताप लगा,

पीड़ा हुई पर पता चला,

माप तौल के अनगिणत उपकरण,

अनावश्यक मैं ढो रहा था,

और इनके बोझ तले,

क्या कुछ नहीं खो रहा था,

आँकने से मूल्य नहीं बदलते,

समझाता हूँ स्वयं को,

कह कह कर ।

यह जो हल्कापन भर जाता है मुझमें,

रह रह कर ।

************************************

 

बादलों के संग तैरना है,

हवाओं में उड़ना है,

या अनंत प्रकाश भर बाहों में,

किसी ज्योतिपुंज से जुड़ना है।

या फिर सूक्ष्म कुछ ऐसा होना,

कि किरण मूल में झाँक सके,

सृष्टि के उद्गम को परखे,

ब्रह्माण्ड को माप सके ?

अरे नहीं, ये काम अलग हैं,

उत्कृष्ट हैं पर आयाम अलग हैं,

यहाँ तैरना खुशबू जैसा,

यहाँ उड़ान मन की उड़ान है,

न स्प्रिहा न आकांक्षा,

सहज चेतना का वितान है,

सूक्ष्मता यहाँ आकार नहीं है,

आदि अंत का भार नहीं है,

नहीं चुनौती गूढ प्रश्न के

और ज्ञान का अहंकार नहीं है ।

बस मन है, शुचिता है,

सहजता का संबल है,

जो हर लेता है मेरा हर भार,

मेरी सारी कमियों को सह सह कर।

यह जो हल्कापन भर जाता है मुझमें,

रह रह कर ।

भोर : तीन आयाम

pexels-photo-1631664

 

विस्मृति के आगोश में,

सपनो की उंगलियाँ पकड़े,

हवाओं में डूबता-तैरता मन,

पता नहीं यह बचपन की यादें हैं,

या या है यादों का बचपन ।

 

शैशव-सा निर्दोष,

भींगी-भींगी शुचिता,

हरी दूब पर ओस,

नहीं कोई राग-रंग,

ना ही घुमाव ना ही कोई मोड़,

धवल सरल भोर,

जैसे काल प्रवाह का उद्गम ।

 

 

 

खिड़की-झरोखे सब बंद,

फिर भी पता नहीं किस चोर-दरवाजे से,

घुस आया थोड़ा उजाला,

बादल के फाहों-सा नरम-नरम,

गीलापन सारा बाहर छोड़ आया है,

साथ है खुशबू नयेपन की, चिरयौवन की ।

न बंधने का इशारा,

ना बांधने का संकेत,

आलस्य में भी उन्मुक्ति,

प्राण-मन-बल समेत,

बस जीवन की निरंतरता,

ना कोई भविष्य ना कोई अतीत,

स्वरहीन लय में शाश्वतता का गीत,

प्राणों को करता आगे की ओर,

अक्षुण्ण ऊर्जामय भोर,

जैसे काल यंत्र का ईंधन ।

 

 

 

रात अंधेरी जगती आँखें,

चिहुँक-चिहुँक कर लगती आँखें,

पौ फटने की आस लगाये,

जलती बुझती तपती आँखैं ।

लहरों ने थपेड़ों ने,

जिन्दगी के अनगिनत सवालों ने,

गीले डैनो ने थकी बाहों ने,

अपनी नजरों मे गिराते अपने ही खयालों ने,

हैरान तो किया है,

पर इतना भी नहीं,

कि मुड़ के देखूँ तो,

नहीं लगे कुछ भी सही ।

 

अंधेरे भरमाते हैं,

अपने से कुछ दूर ले जाते हैं,

पर वहीं तक जहाँ नजर आती है,

उजाले की पहली आहट,

आती हुई अपनी ओर,

तमभेदी मर्मग्राही भोर,

जैसे प्रलय उपरांत जीवन का क्रंदन ।

जाना कहाँ है

pexels-photo-897014

 

किसीने पूछा – जाना कहाँ है।

मैं हँसा – अभी तक ये जाना कहाँ है।

 

जब जान जाऊँगा,

तुम्हे ही नहीं,खुद को भी बताऊँगा।

 

चलने दो,

अभी फुर्सत नहीं है रुकने की।

पैरों को थमना नहीं गवारा है।

जब तक दायरों में बँटे नहीं हम,

तब तक सारा जहाँ हमारा है।

मंजिल

img_7472

 

 

बहुत तूफान देखे हैं

बहुत किनारे देखे हैं।

हासिल मुकाम भी,

अपने वो सारे देखे हैं।

जो नहीं देख पाया

उसे देखने को अब तो,

सूरज ही मुझे चाहिये,

बहुत चांद-तारे देखे हैं।

 

 

मदहोशी

pexels-photo-1628137

 

गहरा   वो   समंदर  था,

या  डूबता  किनारा  था।

मुँह फेरने की अदा थी वो

या    कोई   ईशारा   था।

 

बेखुदी    का    मंजर   वो

कितना  खुशगवार  हुआ।

कि चलते  तीर   तम्हारे थे

और चाक सीना हमारा था।

 

 

भूल जाता हूँ

img_7332

 

खयाल  रखता  हूँ,पर  बताना भूल  जाता हूँ,

मानता हूँ, अपनी नजरें झुकाना भूल जाता हूँ।

 

है अच्छा लगता सुनता रहूँ जो औरों के किस्से,

कुछ बात है कि अपना फसाना भूल जाता हूँ।

 

तकल्लुफ  हो  नहीं पाता  यारों  अब मुझ से,

तसल्ली गहरी हो  तो मुस्कुराना भूल जाता हूँ।

 

अदब  के कायदे  सारे  यूँ मुझको भीआते हैँ,

पर  जब वक्त  आता है, बहाना  भूल जाता हूँ।

 

सीखे हैं  दोस्ती  के गुर  कुछ  इस तरह हमनें,

सरे-जंग  भी  दुश्मनी   निभाना  भूल  जाता  हूँ।

 

ये जिद है कि कह  देने से  ये हल्का ना हो जाये,

किसीके लब पे अपना लहू दिखाना भूल जाता हूँ।