अश्रु धार

Photo by Meryl Katys on Pexels.com

पराजित होना पराक्रम का,

विफल होना श्रम का,

विलुप्त होना प्रत्यक्ष का,

और

टूट कर बिखरना शाश्वत क्रम का,

देखा है कई बार।

पर क्या कभी जाता व्यर्थ,

सजल नयन से गिरता अश्रु धार?

कुछ तो पिघलता है, अश्रु के बनने के पहले,

कुछ तो मचलता है. इसके बहने के पहले,

कुछ कलुष तो धुलता है, इसकी प्रवाह से धमनियों में,

कोई बांध तो टूटता है इसके छलकने के पहले,

कोई चिन्ह छोड़ता जाता है जहाँ-जहाँ यह चले।

कलुष को धो कर देता है शुचिता,

संकीर्णताओं को प्रसार देता,

उन्मुक्त करता प्रवाह को,

संवेदनाओं को देता है आकार,

नमी जीवन के मरुस्थल को और

उष्मा का, सुषुप्त शिथिलता में, करता है संचार।

धुँधली, आड़ी-तिरछी रेखाएँ जो छोड़ जाता है,

उससे कितने जीवन की दिशाएँ पुनर्परिभाषित होती हैं,

कितने निषेध, कितने आमंत्रण अपने में छिपाये यह मोती है।

Published by

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s