सबके अपने-अपने जीवन

Photo by u0410u043bu0435u043au0441u0430u043du0434u0440 u041fu0440u043eu043au043eu0444u044cu0435u0432 on Pexels.com

धीर, शांत और मुदित नयन,

निहारता उत्ताल लहरों का नर्तन,

अठखेलियां करती उर्मियाँ, पवन,

अगाध वक्ष में संचित कर जीवन।

सागर नि:संग हो करता अवलोकन,

देखता चतुर्दिक योजनों के योजन,

स्थितप्रज्ञ, विचारता सकल जल मेरा,

यद्यपि बूंद मात्र नहीं मेरे प्रयोजन।

उदात्त चरित्र का अपना सम्मोहन,

स्वयम से कहता हर पल हर क्षण,

मोह हीन मैं, क्षोभ हीन मैं,

मेरा जल हेतु जगत के  जीवन।

टूटी तंद्रा, देख जल को होते स्वच्छंद,

और उठते वाष्प का निरंतर उर्ध्वगमन,

बिन अनुमति यह चला क्योंकर,

इतने क्षीण क्या सम्बंध और बंधन।

उठता उपर, क्षण क्षण जीवन में गहराता,

संघनित वाष्प हो गया नभ में मेघ सघन,

बरसता, बहता, उफनता, लहराता,

सहज आ मिला पुन: सागर से प्रवाह बन।

भ्रम कि जो मुझमें है, मेरा है,

आधारहीन, क्षणभंगुर, भ्रांतिक दर्शन,

आवरण, काया, विवेक, अंतर्मन अपने,

पर सबके हैं अपने-अपने जीवन।

Published by

2 thoughts on “सबके अपने-अपने जीवन”

  1. आप बहुत अच्छा लिखते है। इंडिया के लेखकों के लिए एक सुनहरा अवसर है। एक प्रतियोगिता चल रही है, जिसमें ढ़ेरों इनाम भी है। क्या आप इसमें भाग लेना चाहेंगे? अगर आप उत्सुक हो तो आप मुझे बताए तो मैं आपको सारी details भेजूंगी।

    Like

  2. धन्यवाद। हाँ, मैं इस प्रतियोगिता में हिस्सा लेना चाहूँगा। कृपा कर जानकारी भेजें।
    इस सहयोग के लिये आपका आभारी हूँ।

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s