भाव

भाव निखर।
हो चिरंतन, कर मुखर।
रह सरल, तरल, सुलझ सँवर।

अमृत नहीं, बस ज्ञान मृत्यु का;
सहज प्रेम, स्पष्ट शत्रुता;
ऐसी ही सीधी बातों का मुझ पर जादू कर।

भाव निखर।

छोटे-छोटे सुख

छोटे-छोटे सुख इतने छोटे क्यों हो गये?
दूर खड़े हो गये हम क्यौं पहाड़-से?
एक-से पर अलग-अलग तने देवदार-से?
कि उतरी परी आसमान से तो सर भी न झुका सके हम।
धड़कता है कुछ हमारे सीने में भी
इतना तक न बता सके हम।
बने तो हम खरे थे
खोटे क्यौं हो गये?
छोटे-छोटे सुख
इतने छोटे क्यौं हो गये?