अन्तर्निहित

pexels-photo-897014

 

 

अजीब-सी बेफिक्री में हँ आजकल।

कल के खयाल भी आज याद नहीं आते।

कितना कुछ खो जाता है।

पर मलाल नहीं है।

अपने से आँख तरेरे कोई सवाल नहीं है।

 

अच्छा लगने लगा है

कि कुछ भी ठहरता नहीं है,

अनचाहे उद्वेगों की गति सम होने लगी है

और किसी भी चीज पकड़ने की जिद भी

कम होने लगी है।

 

कुछ किसी और का हो जाये न कहीं-

डसता नहीं है भरमाता नहीं है।

खोने का डर भी हर पल कुछ संजोकर

रखलेने को उकसा पाता नहीं है।

 

कोई कातरता नहीं है,

इस अपरिग्रह में, इस विराग में

लगता है सब कुछ सही है।

नहीं, कहीं से भी यह

हौसले की कमी नहीं है।

 

केई समझौता नहीं वहाँ तक पहुँचने

अपने तरीकों से

और कोई बदलाव नहीं चीजों से रू-ब-रू होनेके

अपने सलीकों में,

बस पाने और खोने का फर्क

अपना रंग खोने लगा है।

ऊपर से यह कि हारने और छोड़ने

के बीच का महीन-सा फर्क अब

साफ-साफ दिखने और भाने लगा है ।

सचमुच इस बेलगाम बेफिक्री में

जीने का मजा आने लगा है।

 

 

स्निग्धद्धता

 

sunset-over-grand-canyon(1)

कभी-कभी रोया करो।

 

आँखें नम होंगी

तो जलन कम होगी।

 

धुँधलका छँटेगा

और दूर तक दिखेगा।

 

दाग धब्बे कम नजर आयेंगे

मिटते वहम नजर आयेंगे।

 

एक बात बताता हूँ

करके देखोगे तो मान जाओगे

जब भी सूखेगी पलकें

अपने आप को धुला पुछा पाओगे।

सानिध्य

02CC41C6-8B21-4AFC-AAD0-8AEED707F790

तल्खियों को बसएक शाम की जरूरत है।

हमें तो शिकायतों से भी मुहब्बत है।

 

ये शोखियाँ, ये कहकहे,

कितने किस्से अधकहे,

ये हल्की-हल्की बेखुदी,

यकीनन,

जिन्दगी बड़ी खूबसूरत है।

नीरव नाद

यह  कैसा  वैराग्य   है   बंधु  यह  कैसा   मधुमास,
होठों लगा हो  मधु  का  प्याल  गले  लगी हो प्यास।

कोलाहल और नीरवता  दोनो  ही  मुझको  प्यारे हैं,
एक है  मेरे दिल की धड़कन  एक  मन का  विश्वास।

तिनका-तिनका बुना बसेरा पर झंझा से आक्रांत नहीं,
निशचल रहा निश्छल मन मेरा जब पवनबहे उनचास।

पाने का  खोने  का कुछ  फर्क  नहीं अब  मेरे मनमें
रेत कण-कण रहा फिसलता पर बांध लिया आकाश।

प्रतिरोध और करुणा

प्रतिरोध अगर न कहीं पड़े,
पौरुष अगर न कहीं अड़े,
तो बल कोइ कहाँ लगायेगा?
शून्य से लड़ क्या पायेगा?

आँखों में यदि पानी न हो,
पड़ पीड़ा पहचानी न हो,
दिन रात बीतते जायेंगे
क्या यह जीवन कहलायेगा?
या शून्य ही शून्य रह जायेगा?

भाव

भाव निखर।
हो चिरंतन, कर मुखर।
रह सरल, तरल, सुलझ सँवर।

अमृत नहीं, बस ज्ञान मृत्यु का;
सहज प्रेम, स्पष्ट शत्रुता;
ऐसी ही सीधी बातों का मुझ पर जादू कर।

भाव निखर।

छोटे-छोटे सुख

छोटे-छोटे सुख इतने छोटे क्यों हो गये?
दूर खड़े हो गये हम क्यौं पहाड़-से?
एक-से पर अलग-अलग तने देवदार-से?
कि उतरी परी आसमान से तो सर भी न झुका सके हम।
धड़कता है कुछ हमारे सीने में भी
इतना तक न बता सके हम।
बने तो हम खरे थे
खोटे क्यौं हो गये?
छोटे-छोटे सुख
इतने छोटे क्यौं हो गये?