नीरव नाद

यह  कैसा  वैराग्य   है   बंधु  यह  कैसा   मधुमास,
होठों लगा हो  मधु  का  प्याल  गले  लगी हो प्यास।

कोलाहल और नीरवता  दोनो  ही  मुझको  प्यारे हैं,
एक है  मेरे दिल की धड़कन  एक  मन का  विश्वास।

तिनका-तिनका बुना बसेरा पर झंझा से आक्रांत नहीं,
निशचल रहा निश्छल मन मेरा जब पवनबहे उनचास।

पाने का  खोने  का कुछ  फर्क  नहीं अब  मेरे मनमें
रेत कण-कण रहा फिसलता पर बांध लिया आकाश।

प्रतिरोध और करुणा

प्रतिरोध अगर न कहीं पड़े,
पौरुष अगर न कहीं अड़े,
तो बल कोइ कहाँ लगायेगा?
शून्य से लड़ क्या पायेगा?

आँखों में यदि पानी न हो,
पड़ पीड़ा पहचानी न हो,
दिन रात बीतते जायेंगे
क्या यह जीवन कहलायेगा?
या शून्य ही शून्य रह जायेगा?

भाव

भाव निखर।
हो चिरंतन, कर मुखर।
रह सरल, तरल, सुलझ सँवर।

अमृत नहीं, बस ज्ञान मृत्यु का;
सहज प्रेम, स्पष्ट शत्रुता;
ऐसी ही सीधी बातों का मुझ पर जादू कर।

भाव निखर।

छोटे-छोटे सुख

छोटे-छोटे सुख इतने छोटे क्यों हो गये?
दूर खड़े हो गये हम क्यौं पहाड़-से?
एक-से पर अलग-अलग तने देवदार-से?
कि उतरी परी आसमान से तो सर भी न झुका सके हम।
धड़कता है कुछ हमारे सीने में भी
इतना तक न बता सके हम।
बने तो हम खरे थे
खोटे क्यौं हो गये?
छोटे-छोटे सुख
इतने छोटे क्यौं हो गये?