ऐसा कम होता है

Photo by Miguel u00c1. Padriu00f1u00e1n on Pexels.com

ऐसा कम होता है,

कि कोई हमारा नाम पुकारे,

जब किसी अनजान गली से गुजर जायें,

रोज जिन फूलों देख कर हम मुस्कुराते हैं,

कभी वे भी हमें देखकर मुस्कुरायें।

और किसी अजनबी से मिलते ही,

सदियों की पहचान का भ्रम होता है।

ऐसा कम होता है।

शिकायतें कंधों पर पड़ी बोझों की खुद से,

बेड़ियों की जकड़नों के किस्से बहुत से,

गुजरते रहे वक्त के मेले कुछ यूँ ही,

किधर चले पता नहीं, पर दम भर न ठहरे,

पर किसी घायल को उठाते ही,

सध जाता आगे बढता हर कदम होता है।

ऐसा कम होता है।

लड़ते हुए खुशियों के लिये ही,

गुजरी उम्र अब तक की, पर मिली नहीं,

जब भी थक कर बैठे तो सोचा किया,

क्या लड़ने से खुशी किसी को मिली है कहीं?

और ऐसे में अचानक महसूस हो,

कि औरों की खुशी में खुशी,

और औरों के गम में गम होता है।

ऐसा कम होता है।

यह जो कम होता है,

कितना खुशफहम होता है।

तपते उजालों में छाँव की तरह मिलता है,

लुका छिपी खेलते नंगे पाँव की तरह मिलता है,

अफसोस कि क्यों नहीं ऐसा हरदम होता है।

और सवाल खुद से कि क्यों आखिर,

ऐसा कम होता है?

Published by

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s