पूर्णता का भाव

Photo by Ben Cheung on Pexels.com

खुद से लड़ते-लड़ते,

अपनी ही बाधाओं पर

चढते उतरते,

जहाँ पर पहुँचा हूँ,

अपना-सा लगता है।

पाँव के छालों की जलन में भी,

चुकती साँसों की घुटन में भी,

एक पूर्णता का भाव जगता है।

स्मृति के उस छोर पर,

जहाँ से चलना शुरू किया था,

सामने की पगडंडी को,

अपनी राह मान लिया था,

एक दीये-सा टिमटिमाता अपना,

अंधकार से जूझने का स्वभाव जलता है।

और हासिल भले कुछ हो न हो,

एक पूर्णता का भाव जगता है।

कितनी ही लहरों में डूबते-उतराते,

कितनी ही बार खुद को खोते-पाते,

जब भी छोड़ दिया सबकुछ,

आशा-निराशा, कल के सपने, मन के नाते,

तैरते तिनके-सी अपनी आजादी,

और भार हीन होना अच्छा लगता है।

एक पूर्णता का भाव जगता है।

कुछ देर के लिये ही सही,

आह्लाद कुछ निशान पीछे छोड़ पाने का,

लघुता के सारे कलंक को,

क्षुद्रता बनने से रोक पाने का,

किसी का अनहित नहीं हो कभी,

इस धर्म की माला मन बार-बार जपता है।

एक पूर्णता भाव जगता है।

रण हो, फुर्सत के क्षण हों,

सहज आलस्य का विलास,

सूक्ष्म संवेदनाओं का स्पंदन हो,

गहनतम अंधकार, चित्त का उजास,

इतनी दूर आ पाने की सुख ही,

हर कड़वाहट को मिठास में बदलता है।

एक पूर्णता का भाव जगता है।

Published by

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s