हे चिर अशेष

Photo by Lucas George Wendt on Pexels.com

जगमग करते नभ में तारे,

अपनी सज्जा में स्वयम मगन,

मैं हूँ इनमें या ये हैं मुझमें,

इस परिहास से मुदित गगन,

यह सब मेरा या मैं हूँ इनका,

जिज्ञासा में उद्वेलित मानव मन।

पास बुलाते जैसे हर पल,

हरा-भरा और शस्य श्यामल,

बसुधा ओढती इनको ऊपर,

या हैं ये वन उनके वल्कल?

आकर्षित भी, आतंकित भी,

पहली छवि आसक्ति का निर्मल।

दुग्ध-सिक्त तप-मग्न शिखर,

किसी सिद्धि में लीन विप्रवर,

प्रेरणा लक्ष्य और आकांक्षा के,

जागृत करते संकल्प प्रखर,

धन्य बनूँ बन उपासक इनका,

या बनूँ इनसा मैं अजर अमर।

विस्तृत प्रांगण का चिर सम्मोहन,

वक्ष स्थल आदि पुरुष का पावन,

उद्वेलन और स्थिरता संग संग,

सागर मनीषी का आत्ममंथन,

सीखूँ समेटना उत्ताल तरंगें,

या अंतर्मन का स्वभाव गहन।

अद्भुत यह विविधता, समावेश,

मैं चिर याचक का धरे भेष,

मन के यायावर से पूछ रहा,

जियूँ या निहारूँ प्रकृति निर्निमेष,

हे रचनाकार समग्र सृष्टि के,

दे सहज समर्पण, हे चिर अशेष।

Published by

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s