छोटे-छोटे सुख

छोटे-छोटे सुख इतने छोटे क्यों हो गये?
दूर खड़े हो गये हम क्यौं पहाड़-से?
एक-से पर अलग-अलग तने देवदार-से?
कि उतरी परी आसमान से तो सर भी न झुका सके हम।
धड़कता है कुछ हमारे सीने में भी
इतना तक न बता सके हम।
बने तो हम खरे थे
खोटे क्यौं हो गये?
छोटे-छोटे सुख
इतने छोटे क्यौं हो गये?

Published by

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s